Aitbaar Shayari For Boys

bharosa shayari For Boys

  • अगर सरकार ये नियम लागू कर दे कि एडमिन बनने के लिए 12वी में 60% जरुरी तो कसम से आधे से ज्यादा ग्रुप रद्द हो जायेंगे।
  • Alfaaz To Bahut Hain
    Mohabbat Bayan Karne Ke Liye,
    Par Jo Khamoshi Nahi Samajh Sakte
    Woh Alfaaz Kya Samjhega.

aitbaar nahi karna shayari song For Boys

  • ek baat zindagi bhar yaad rakhna kisi ko dukha mat dena
    Q -K dhuke mein badi jaan hoti hai ye kabhi nahi marta
    ghum phir ke ek din aap ke paas wapas aa jata hai
    Q-K isse apne thikhane se mohabaat ho jaati hai
  • Ham Alfazo Se Khelte Rah Gaye,
    Aur Wo Dil Se Khel Ke Chali Gayi.

ऐतबार शायरी images For Boys

  • कलम चलती है तो दिल की आवाज लिखता हूँ,
    गम और जुदाई के अंदाज़-ए-बयां लिखता हूँ,
    रुकते नहीं हैं मेरी आँखों से आंसू,
    मैं जब भी उसकी याद में अल्फाज़ लिखता हूँ।
  • Ab Ye Na Puchhna Ke Main Alfaaz Kahan Se Lata Hun,
    Kuchh Churata Hun Dard Dusron Ke Kuchh Apni Sunata Hun.

aitbaar shayari rekhta For Boys

  • Jab Alfaaz Panno pe shor karne lage,
    Samajh lena Sannate badh gaye hain.
  • har samay khush rhena cahiye kyunki
    pareshan hone se kal ki mushkilen door nahi hoti
    balki aaj ka sakoon bhi chala jata hai

aitbaar na raha shayari For Boys

  • Alfaaz Churane Ki Humein Jarurat Hi Na Padi Kabhi,
    Tere Be Hisab Khayalon Ne Be Hatasha Lafz Diye.
  • आज के जमाने में सत्संग उसी संत का बढ़िया रहता है जिसके पंडाल में गर्म पकोड़े जलेबी और अदरक वाली चाय मिले। वरना ज्ञान तो अब Whatsapp पर भी बंटता है।

mohabbat shayari For Boys

  • WhatsApp छोटे बच्चों के डायपर की तरह होता है! होता कुछ नहीं लेकिन हर 5 मिनट में चेक करना पड़ता है।
  • कोई भी इंसान पूरी दुनिया के लिए नहीं जीता
    बकले कुछ ख़ास लोगो के लिए जीता है
    जो इस के लिए सारी दुनिया होते है

aitbaar na karna shayari For Boys

  • अपनी ख़ुशी के लिए दूसरों की ख़ुशी को ख़ाक में ना मिलाओ
    तुम्हारी वो ख़ुशी बेकार है जिस के पीछे किसी के आंसों आ पड़े
  • Aansoo Mere Dekh Kar Kyun Pareshan Hai Ai Dost,
    Ye To Wo Alfaaz Hain Jo Jubaan Tak Na Aa Sake.

aitbaar shayari image For Boys

  • jo tumhari khamoshi se tumhari takleef ka andaza na kar sake
    uske samne zubaan se izhaar karna sirf lafzon ko
    barbaad karna hai
    उसे कहना किस्मत पे इतना भी नाज़ नहीं करते
    मैंने बारिश में भी जलते माकन देखें है
  • रुतबा तो खामोशियों का होता है मेरे दोस्त…
    अलफ़ाज़ तो बदल जाते है लोगों को देखकर।

shayari on aitbaar For Boys

  • dusra us bharose ko samjhe
    सपना वो नहीं है जो आप को नींद में देखे
    सपना वो है जो आपको नींद ही नहीं आने दे
  • ये जो खामोश से अलफ़ाज़ लिखे है न,
    पड़ना कभी ध्यान से चीखते कमाल है।

aitbaar shayari For Boys

  • एक जरूरी सुचना: आज-कल WhatsApp पर हर आदमी ने तिरंगे की फोटो लगा ली है। सब एक जैसे लग रहे हैं। फोटो वीडियो वगैरह शेयर करते समय सावधानी बरतें।
  • भगवान भी हैरान है कि इतनी घंटियां तो मंदिर की भी नहीं बजती जितनी WhatsApp की बजती हैं!

You may also like