Aitbaar Shayari For Men

khud se bhi jyada pyar shayari For Men

  • अलफ़ाज़ चुराने की हमें जरुरत ही ना पड़ी कभी,
    तेरे वे हिसाब ख्यालों ने वे हतासा लफ्ज दिए।
  • Meri Shayari Ka Asar Un Par Ho Bhi To Kaise Ho?
    Ke Main Ehsaas Likhta Hun Wo Alfaz Parhte Hain.

aitbaar shayari image For Men

  • सभी ग्रुप मेंबर्स को सूचित किया जाता है की ग्रुप का 2014 की पहली तिमाही (अप्रैल – जून) का ऑडिट होने वाला है। ग्रुप में कौन कौन से सदस्य एक्टिव हैं और किस सदस्य ने क्या क्या पोस्ट किया है इसका कड़ाई से आकलन किया जायेगा। जिन सदस्यों ने इस तिमाही में ग्रुप में कुछ नहीं भेजा है या अपना टारगेट पूरा नहीं किया है दोषी पाए जाने पर उनकी तरफ से पार्टी ली जा सकती है। अत: इस माह के अंत तक सभी सदस्य जल्द से जल्द अपना टारगेट पूरा करें। धन्यवाद्।
  • जब ज़मीर समझोता करना छोड़ दे तो
    समझ लो अब इंसानियत ख़तम हो गई

wish shyari For Men

  • Jab Alfaaz Panno pe shor karne lage,
    Samajh lena Sannate badh gaye hain.
  • मेरी शायरी का असर उन पर हो भी तो कैसे हो ?
    के मैं अहसास लिखता हूँ वो अल्फाज़ पड़ते हैं।

aitbaar karna shayari For Men

  • kisi insaan ki khubi dekho to isse bayan karo
    lekin agar khami mil jaye to wahan tumhari khubi ka imtehaan hai
  • khamoshi ek bhetreen aadat hai
    khaas kar ke tab jab aap jahilon mein ghire huwe ho

aitbaar puja shayari For Men

  • ग्रुप के सभी मेम्बर को सूचित किया जाता है कि स्विस बैंक से जारी सूची में अगर किसी मेम्बर का नाम आता है तो उसे ग्रुप से बर्खास्त कर दिया जायेगा। अच्छा है वह पहले ही ग्रुप को सूचित कर दे।
  • Mat Lagao Boli Apne Alfaazo Ki,
    Humne Likhna Suru Kiya To Tum Nilaam Ho Jaoge.

aitbaar shayari urdu For Men

  • सुबह का भेजा शामको वापस अपने पास आए उसे… . . . . . . . . . . Whatsapp मैसेज कहते हैं।
  • अलफ़ाज़ तो बहुत हैं
    मोहब्बत बयान करने के लिए,
    पर जो खामोशी नहीं समझ सकते
    वो अलफ़ाज़ क्या समझेगे।

ऐतबार शायरी images For Men

  • Simat Gayi Meri Ghazal Bhi Chand Alfaazon Me,
    Jab Usne Kaha Mohabbat To Hai Par Tumse Nahi.
  • आँसू मेरे देख के क्यों परेसान है ए दोस्त,
    ये तो वो अलफ़ाज़ है जो जुबां तक ना आ सके।

hindi shayari for best wishes For Men

  • कुछ लोग पसंद करने लगे हैं अलफ़ाज़ मेरे,
    मतलब मोहब्बत में बर्बाद और भी हुए हैं ।
  • un logo ke saath gujara ho sakta hai jin ki tabiyat kharab ho
    unke saath gujara nahi ho sakta jinki niyat kharab ho

aitbaar shayari rekhta For Men

  • rishton ki khubsurti ek dusre ko bardasath karne mein hai
    be ayb insaan talaash karoge to akele rahe jao ge
  • एक उम्र कटी दो अलफ़ाज़ में,
    एक आस में… एक काश… में।

aitbaar shayari in urdu For Men

  • Hindi anmol vachan for parents Anmol Vachan in Hindi
  • Wo Kehte Hain…
    Kaise Bayan Kare Hum Apna Hal-E-Dil
    Humne Kaha Bas…
    Teen Alfaaz Kaafi Hote Hain Pyar Ka Izhar Karne ke Liye.

You may also like