Aitbaar Shayari For Woman

aitbaar shayari hindi For Woman

  • acche rishton ke liye sharton ya wado ki zarurat nahi padhti
    us ke liye sirf do log cahiye jin mein se ek bharosha kare
  • दोस्त वो है जो दोस्ती का हक दोस्त की गैर मोजुदगी में अदा करे
    और गैरों की महेफ़ील में उसकी इज्ज़त की हिफाज़त करे

aitbaar shayari in urdu For Woman

  • एक जरूरी सुचना: आज-कल WhatsApp पर हर आदमी ने तिरंगे की फोटो लगा ली है। सब एक जैसे लग रहे हैं। फोटो वीडियो वगैरह शेयर करते समय सावधानी बरतें।
  • हम अल्फाजो से खेलते रह गए,
    और वो दिल से खेल के चली गयी।

shayari on aitbaar For Woman

  • अब ये न पूछना के मैं अलफ़ाज़ कहाँ से लाता हूँ,
    कुछ चुराता हूँ दर्द दूसरों के कुछ अपनी सुनाता हूँ।
  • अलफ़ाज़ गिरा देते हैं जज्बात की कीमत,
    हर बात को अलफ़ाज़ में तोला न करो।

aitbaar shayari For Woman

  • भगवान भी हैरान है कि इतनी घंटियां तो मंदिर की भी नहीं बजती जितनी WhatsApp की बजती हैं!
  • Hindi anmol vachan for parents

    Milne Ko toh hajaar log mil jatey hain kintu
    Hajaaron galtiya maaf karney wale maa-baap nahin miltey

    Maa zindagee kee taareek raahon mein roshanee kee meenaar hai
    aur baap thokaron se bachaane vaala majaboot sahaara

    वफ़ा करनी है तो माँ बाप से करो
    दुनियां आपको तभी प्यार करेगी
    जब आपके पास दुनियां वालों के लिए
    कुछ होगा
    vafa karanee hai to maan baap se karo
    duniyaan aapako tabhee pyaar karegee
    jab aapake paas duniyaan vaalon ke lie
    kuchh hoga. Hindi anmol vachan for parents.

aitbaar shayari images hindi For Woman

  • अलफ़ाज़ चुराने की हमें जरुरत ही ना पड़ी कभी,
    तेरे वे हिसाब ख्यालों ने वे हतासा लफ्ज दिए।
  • un logo ke saath gujara ho sakta hai jin ki tabiyat kharab ho
    unke saath gujara nahi ho sakta jinki niyat kharab ho

dosti aitbaar shayari For Woman

  • ek baat zindagi bhar yaad rakhna kisi ko dukha mat dena
    Q -K dhuke mein badi jaan hoti hai ye kabhi nahi marta
    ghum phir ke ek din aap ke paas wapas aa jata hai
    Q-K isse apne thikhane se mohabaat ho jaati hai
  • सिमट गई मेरी गजल भी चंद अलफ़ाजो में,
    जब उसने कहा मोहब्बत तो है पर तुमसे नहीं।

aitbaar shayari photo For Woman

  • Aansoo Mere Dekh Kar Kyun Pareshan Hai Ai Dost,
    Ye To Wo Alfaaz Hain Jo Jubaan Tak Na Aa Sake.
  • har samay khush rhena cahiye kyunki
    pareshan hone se kal ki mushkilen door nahi hoti
    balki aaj ka sakoon bhi chala jata hai

aitbaar na raha shayari For Woman

  • लड़की लड़के से: तुम Whatsapp पर हो क्या? लड़का: नहीं Sorry मैं Whatsapp पर नहीं हूँ लेकिन Whatsapp मेरे फ़ोन में है।
  • सभी तारीफ करते हैं मेरे तहरीर की लेकिन,
    कभी कोई नहीं सुनता मेरे अलफ़ाज़ की सिसकियाँ।

aitbaar na karna shayari For Woman

  • शायद इश्क अब उतर रहा है सर से,
    मुझे अलफ़ाज़ नहीं मिलते शायरी के लिए।
  • jo insaan bohut ladhne ke baad bhi aapko manane ka hunar rakhta ho
    to samjh lena ke wo aap se be inteha mohabaat karta hai

aitbaar shayari 2 lines in urdu For Woman

  • ये जो खामोश से अलफ़ाज़ लिखे है न,
    पड़ना कभी ध्यान से चीखते कमाल है।
  • आ लिख दूँ कुछ तेरे बारे में,
    मुझे पता है कि तू रोज ढूंढती है,
    खुद को मेरे अल्फाजो में।

You may also like