Bewafa Status For Man

dhoka shayari status video download For Man

  • dil chu jane wali hindi shayri

    यह आरजू नहीं कि किसी को भुलाएं हम;
    न तमन्ना है कि किसी को रुलाएं हम;
    जिसको जितना याद करते हैं;
    उसे भी उतना याद आयें हम

    yah aarajoo nahin ki kisi ko bhulaen ham;
    na tamanna hai ki kisi ko rulaen ham;
    jisako jitana yaad karate hain;
    use bhi utana yaad aayen ham

  • हम आदर्श प्रेम का निर्माण करने की बजाये आदर्श प्रेमी खोजने में अपना समय बर्बाद कर देते हैं।

apne dhoka shayari For Man

  • Ye Chiraag-e-Jaan Bhi Ajeeb Hai,
    Ki Jala Hua Hai Abhi Talak,
    Uski Bewafai Ki Aandhiyaan To,
    Kabhi Ki Aa Ke Gujar Gayin.
  • मोहब्बत से भरी कोई गजल उसे पसंद नहीं,
    बेवफाई के हर शेर पे वो दाद दिया करते हैं।

odia dhoka shayari 2019 For Man

  • चली आती है… तुम्हारी याद मेरे जहन में अक्सर..
    तुमसे ज्यादा तुम्हारी यादों को मुझसे मोहब्बत है
  • वो जो तन्हा कर गये तो मै तन्हा हूँ आज तक,
    इन्तहा मै ने भी कर दी इक ज़रा सी…

jawani dhoka shayari For Man

  • Teri Chokhat Se Sar Uthhau To Bewafa Kehna,
    Tere Siwa Kisi Aur Ko Chahu To Bewafa Kehna,
    Meri Wafaon Pe Shaq Hai To Khanzar Utha Lena,
    Main Shauq Se Na Mar Jayun To Bewafa Kehna.
  • मैं तो चिराग हुँ तेरे आशियाने का
    कभी ना कभी तो बुझ जाऊंगा
    आज शिकायत है तुझे मेरे उजाले से
    कल अँधेरे में बहुत याद आऊंगा

dhoka shayari odia new For Man

  • हर शाम को ढलता सूरज याद दिलाता है…
    आज और एक दिन हो गया उसे बेवफा हुए।
  • Kabhi jo ham se pyar beshumaar karte the,
    kabhi jo ham par jaan nisaar karte the,
    bhari mahafil mein hamko bewafa kehte hain,
    jo khud se zyaada hampar aitabaar karte the. ?

dhoka shayari marathi photo For Man

  • वो अपनी गली की रानी होने का गरूर करती है…नादान!
    ये नहीँ जानती कि हम उसी शहर के बादशाह है….
    =RPS
  • ये मासूमियत का कौन सा अन्दाज़ है,

    पर काट कर कह दिया कि,अब तुम आजाद हो।

dhoka and shayari For Man

  • ऐ राम तेरे युग का रावण ही अच्छा था
    दस चेहरे थे पर सब सामने तो थे..!!
  • ज़िंदगी से बस यही एक गिला है,
    ख़ुशी के बाद न जाने क्यों गम मिला है,
    हमने तो की थी वफ़ा उनसे जी भर के..
    पर नहीं जानते थे कि वफ़ा के बदले बेवफाई ही सिला है। ?

dhoka shayari video For Man

  • आप छेड़ें न वफ़ा का क़िस्सा…
    बात में बात निकल आती है…!!
  • बुरा हमेशा वही बनता हे
    जो अच्छा बनके टूट चूका होता हे.

dhoka jhoot shayari For Man

  • इस दुनिया मेँ अजनबी रहना ही ठीक है,
    लोग बहुत तकलीफ देते है अक्सर अपना बना कर !!
  • Dete Mohabbat Ka Inaam Kya,
    Wo Sazaa De Gaye Dekhte-Dekhte.

dhoka shayari 2019 For Man

  • दूर दूर रह कर भी हम कितने करीब हैं
    हमारा रिश्ता भी जाने कितना अजीब है
    बिन देखे ही तेरा यूँ मोहब्बत करना मुझसे
    बस तेरी यही चाहत ही तो मेरा नसीब है
    पर जिसे प्यार ही ना मिला हो किसी का
    वो बदकिस्मत भी यहाँ कितना गरीब है
    और जिसे मिल गया हो तेरे जैसा यार यहाँ
    वो शख्स भी मेरे जैसा ही खुशनसीब है
  • इतने कहाँ मशरूफ हो गए हो तुम,
    आजकल दिल दुखाने भी नहीं आते !!

dhoka shayari love story For Man

  • वही शख़्स मेरे लश्कर से बगावत कर गया…!!
    जीत कर सल्तनत जिसके नाम करनी थी…
  • रहने को सदा जहाँ में आता नहीं कोई…,
    पर तुम जैसे गये वैसे भी जाता नहीं कोई।

dhoka shayari whatsapp dp For Man

  • Wo Nikal Gaye Mere Raste Se Is Kadar Ki,
    Jaise Ki Wo Mujhe Pahchante Nahi,
    Kitne Jakhm Khaye Hain Mere Is Dil Ne,
    Fir Bhi Hum Us Bewafa Ko Bewafa Mante Hi Nahi.
  • Heart Touching Long Poetry about Infidelity (Bewafai)

dhoka shayari dp in urdu For Man

  • प्रेम एक गंभीर दिमागी बीमारी है।
  • तेरी चौखट से सर उठाऊँ तो बेवफा कहना,
    तेरे सिवा किसी और को चाहूँ तो बेवफा कहना,
    मेरी बफओं पे सक है तो खंजर उठा लेना,
    मै शौक से ना मर जाऊं तो बेवफा कहना।

dhoka shayari mp3 download For Man

  • तू छोड़ गया तो ख़ता इसमें तेरी क्या है,
    हर शख़्स मेरा साथ निभा भी नहीं सकता…
  • मैने जब सोचा कि तुम बिन जिना मुश्किल बात नही,
    दिन तो मुश्किल से ही गुज़रा, तुम बिन गुज़री रात कहाँ ?
    ज़हर समय का वह पी लेगा, कहता है तो कहने दो..
    लीडर है वो सच न मानें, अब कोई सुकरात कहाँ ।
    मेरी आँखों मे बुंदे थी, जब तितली के पंख नुचे,
    जी तो चाहे शहर डुबो दूँ, आँखों में बरसात कहाँ ।
    तेरी याद के नाखूनों से, रोज उधेड़े जख़्मों को,
    मिलन की मरहम की चाहत है, पर ऐसी कोई रात कहाँ ।

dhoka shayari download For Man

  • meri mohabbat aur teri fitrat mein fark sirf itna hai
    tujhe ulfat nahi humse humein nafrat nahi tumse
    हर तरफ से कटा पड़ा हूँ मैं
    चीथड़ों में बेबस सा सिमट रखा हूँ मैं
    क्या गुनाह किया इश्क़ करके मैंने
    जो तुम्हारी दुनिया में मरा पड़ा हूँ मैं
  • हम तो खुद अपने ही, वादे नहीं निभा पाए,
    ज़िन्दगी तुझसे जो रखते, तो क्या गिला रखते !!

Deal of The Day


You may also like