Dhoka Status For Man

dhoka shayari dp download For Man

  • बहुत भीड़ थी उनके दिल में,
    अगर खुद न निकलते तो निकाल दिये जाते।
  • प्रेमी: अगर मुझे करोड़ों रुपये का घाटा हो जाये तो तुम फिर भी मुझसे शादी करोगी? प्रेमिका: क्या तुम्हे सच में करोड़ों रुपये का घाटा हो गया है? प्रेमी: नहीं बस मैं ऐसे ही पूछ रहा था! प्रेमिका: तब ठीक है तुमसे ही शादी करुगी!

new dhoka shayari english For Man

  • कुछ तो ख़बर होगी तुम्हारे शहर में,
    हम बेख़बर हैं अपने शहर में !!
  • mohabbat to buhut doot ki baat hai
    tum to meri nafrat ko tarso ge
    अगर तुम्हारी नजरें कत्ल करने में माहिर है तो
    मेरी नजरें भी धमाका करने में माहिर है

dhoka shayari for husband For Man

  • उस पगली‬ को‬ क्या पता जिस मंदिर में वो मेरी मौत की दुआ मांगती है
    उस मंदिर में मैने अपनी जान गिरवी पर रखी है उसे पाने के लिए
  • तुम सादा-मिज़ाजी से मिटे फिरते हो जिस पर…
    वो शख़्स तो दुनिया में किसी का भी नहीं है…!!

dhoka shayari assamese For Man

  • तेरी चौखट से सर उठाऊँ तो बेवफा कहना,
    तेरे सिवा किसी और को चाहूँ तो बेवफा कहना,
    मेरी बफओं पे सक है तो खंजर उठा लेना,
    मै शौक से ना मर जाऊं तो बेवफा कहना।
  • Kaise Yakeen Kare Hum Teri Mohabbat Ka,
    Jab Bikti Hai Bewafai Tere Hi Naam Se.

dhoka shayari urdu 2 line For Man

  • भुला देना उसे जो रुला जाये याद रखना उसे जो निभा जाये
    वादे आपसे करेंगे बहुत लोग मगर अपने दिल की बात कहना उसे
    जिसके बिना एक पल न जिया जाये.
  • dil ko chu jane wali shayari hindi

    दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!
    तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!
    यूँ तो मिल जाता है हर कोई

    dil se dil badi mushkil se milate hain!
    tuphaano mein saahil badi mushkil se milate hain!
    yoon to mil jaata hai har koy

maya ma dhoka shayari nepali For Man

  • ज्यादा परवाह न किया करो किसी की…
    लोग बेपरवाह हो जाया करते हैं…!!
  • शेर को सवा शेर कही ना कही जरुर मिलता है
    और रही बात हमारी तो हम तो बचपन से ही शिकारी है

dhoka shayari hindi me For Man

  • हम मतलबी नहीं की चाहने वालो को धोखा दे
    बस हमें समझना हर किसी की बस की बात नही !!
  • होने वाले खुद ही अपने हो जाते हैं..
    किसी को कह कर अपना बनाया नहीं जाता….

dhoka shayari dp For Man

  • कुछ कदम हम चले कुछ कदम तुम चले
    फर्क सिर्फ इतना रहा
    हम चले तो फाँसलेकाम होते गए
    और तुम चले तो फाँसले बढ़ते गए
  • ना जाने मेरी मौत कैसी होगी,
    पर ये तो तय है की तेरी बेवफाई से तो बेहतर होगी

dhoka shayari for sister For Man

  • Pyar me bewafai

    प्यार में बेवाफाई मिले तो गम न करना;

    अपनी आँखे किसी के लिए नम न करना;

    वो चाहे लाख नफरते करें तुमसे;

    पर तुम अपना प्यार कभी उसके लिए कम न करना।

  • Wo Nikal Gaye Mere Raste Se Is Kadar Ki,
    Jaise Ki Wo Mujhe Pahchante Nahi,
    Kitne Jakhm Khaye Hain Mere Is Dil Ne,
    Fir Bhi Hum Us Bewafa Ko Bewafa Mante Hi Nahi.

dhoka love shayari image For Man

  • वो पलकें झुकाना वो तेरा शर्माना; कोई तुझसे सीखे दिल को चुराना; वो लटों को अपनी उंगली से घुमाना; कोई तुझसे सीखे किसी को दीवाना बनाना।
  • रिश्ते अगर बढ़ जाये हद से तो ग़म मिलते है
    इसलिए आजकल हम हर शख्स से कम मिलते है

dhoka shayari photo dp For Man

  • कुछ लोग टुट कर चाहते हैं
    कुछ लोग चाह कर टुट जाते है
    हमें तुमसे महोब्बत है कितनी
    आओ आज तुम्हें ये बताते हैं
    सुना है प्यार में मुश्किल नहीं कुछ भी
    चलो समंदर में आग लगाकर आजमाते हैं
  • मुझसे मोहब्बत पर मशवरा मागते है लोग
    तेरा इश्क ऐसा तजुर्बा दे गया मुझको

dhoka shayari gana For Man

  • दिल जलाने की आदत उनकी आज भी नहीं गयी
    वो आज भी फूल बगल वाली कबर पर रख जाते हैं
  • एक तेरा ही नाम मुक्कमल तेरा ही सज़दा दिल ने किया
    तू पूछ बेवफा कभी खुद से तूने मेरे साथ…

dhoka shayari friend For Man

  • इजाज़त हो तो तेरे चहेरे को देख लूँ जी भर के..
    मुद्दतों से इन आँखों ने कोई बेवफा नहीं देखा।
  • nahi tumse koi shikayat bus itni si ilteza hai
    jo haal kar gaye ho kabhi dekhne mat aana

dhoka shayari photo english For Man

  • हमारे पास था भी क्या, एक सब्र के सिवा,
    वो भी आज लुटा बैठे है, तेरे इन्तजार में !!
  • दिल भी गुस्ताख हो चला था बहुत,
    शुक्र है कि यार ही बेवफा निकला।
    Dil Bhi Gustaakh Ho Chala Tha Bahut,
    Shukr Hai Ki Yaar Hi Bewafa Nikla.

dhoka shayari marathi For Man

  • बेतअल्लुक़ी उसकी कितनी जानलेवा है
    आज हाथ में उस के फूल है न पत्थर है
  • गंगा सागर से मिल कर बोली मुझे अपने में समाते तो फिर सागर कहलाते हो? सागर बोला अपने आंसुओं को दूर तक बरसाया है तब जाकर तुझको पाया है!

You may also like