Non Veg Jokes For Roposo

non veg good night images For Roposo

  • नाम से नाम नहीं जुड़ा करते बुद्धु
    दिल से दिल जुड़ा करते हैं समझे
  • मिला है धोखा पूरा यकीं था उनके आँसुओं ने पर पैदा किया भ्रम था
    भ्रम टूटा भी तो तब फिर जीना चाहने लगे थे जब

smart jokes for adults For Roposo

  • उनकी काली आँखों का काजल लगता है इस तरह
    जैसे बादल में काली घटा छायी हो
  • जब वाे मुँह में क्लिप दबा कर खुले बालो का जुड़ा
    लगाती है
    कसम से
    ऐक बार ताे जिन्दगी वहीँ रूक
    जाती है..!!

fb satta non veg jokes hindi For Roposo

  • इश्क इश्क का जमाने में फर्क क्या होता है
    कही इश्क की जरूरत होती है
    और कही जरूरत का इश्क होता है
    er kasz
  • सिलवटें ही सिलवटें थी बिस्तर पर सुबह
    यादों की करवटें ही करवटें थी रात भर

non veg jokes in punjabi For Roposo

  • कितनी मासुम सी ख़्वाहिश थी इस नादांन दिल की
    जो चाहता था कि शादी भी करूँ और ख़ुश भी रहूँ
    Er kasz
  • उलझा हुआ हूँ अभी मैं अपनी उलझनों में
    तुम ये ना समझना ना कि तुम्हें चाहा था बस दो दिन के लिए

dirty jokes in hindi 2020 For Roposo

  • देख पगले Degree तो तुजे किसी भी College से मिल जायेगी
    मगर Knowledge तो मेरे Status से ही मिलेंगा
  • सुना है आजकल तेरी मुस्कराहट गायब हो गई है
    तेरी इजाजत हो तो फिर से तेरे करीब आऊँ

vulgar jokes in hindi For Roposo

  • दिलो से खेलना हमें भी आता है
    मगर जिस खेल में दोस्तों का दिल टूट जाए
    वो खेल हमें पसंद नहीं
  • काश आपकी सूरत इतनी प्यारी ना होती
    काश आपसे मुलाकात हमारी ना होती
    सपनो में ही देख लेते हम आपको
    तो आज मिलनी की इतनी बेकरारी ना होती

non veg jokes santa banta For Roposo

  • मेरे attitude पर मत जाना तुम्हारे समझ नही आएगा
    दिल से मत समझना वरना दिल ही निकाल जायेगा
  • हम किसी के लिए उस वक़्त तक स्पेशल है
    जब तक उन्हें कोई दूसरा नहीं मिल जाता

100 dirty jokes in hindi For Roposo

  • बस तू मेरी आवाज़ से आवाज़ मिला दे
    फिर देख कि इस शहर में क्या हो नहीं सकता
  • उमर लग जाती है एहसासों को अल्फ़ाज़ देने में
    फ़क़त दिल टूटने भर से कोई शायर नहीं बनता
    Er kasz

ashleel jokes in hindi For Roposo

  • सूनो मेरे किस्से में तुम आते हो
    मेरे हिस्से में क्यूँ नहीं आते
  • उनसे कहना की क़िस्मत पे ईतना नाज ना करे
    हमने बारिश मैं भी जलते हुए मकान देखें हैं
    er kasz

non veg shayari facebook For Roposo

  • ज़माने से लड़ी तूने ज़ंग कोई जब जब मैं तेरे साथ खड़ी थी तब तब
    खुद मैं तुझ संग ज़ंग लड़ूं कैसे
  • सोचता हुं उसकी तारीफ में कुछ लिखुं फिर खयाल आता है कि
    कहीं पढने वाला भी उसका दिवाना ना हो जाए

You may also like