Shayari On Eyes, Aankhen Shayari For Wife

  • Ikraar Mein Shabdon Ki Ehamiyat Nahin Hoti,
    Dil Ke Jazbaat Ki Aavaaz Nahin Hoti,
    Aankhein Bayan Kar Deti Hain Dil Ki Dastaan,
    Mohabbat Lafjon Ki Mohtaaj Nahin Hoti.
  • इन आँखों की मस्ती के  मस्ताने हज़ारों हैं मस्ताने हज़ारों हैं, इक तुम ही नहीं तन्हाँ उल्फ़त में मेरी रुसवा, इस शहर में तुम जैसे दीवाने हज़ारों हैं
  • Jo Soorur Hai Teri Aankhon Mein Vo Baat Kahaan Maikhane Mein,
    Bas Tu Mil Jaye To Phir Kya Rakha Hai Zamane Mein.
  • तेरी निगाह दिल से जिगर तक उतर गयी,
    दोनों को ही एकअदा में रजामंद कर गई।
  •  Kaid   Khane Hai, Bin Slakhon Ke,
    Kuch Yun Charche Hai Tumhari Ankho Ke..
  • एक नजर देख ले हमे जीने की इजाजत दे दे,
    ए रुठने वाले… वो पहली सी मोहब्बत दे दे।
  • Sagar Se Gahri Hain Aapki Ye Najren,
    Khushiyon Ki Shahnai Hain Aapki Ye Najren,
    Husn Ka Jaam Hain Aapki Ye Najaren,
    Chhupayen Kai Armaan Aapki Ye Najren,
    Le Le Na Kahin Hamari Jaan Aapki Ye Najaren
  • तेरी निगाह दिल से जिगर तक उतर गयी,
    दोनों को ही एकअदा में रजामंद कर गई।
  • Me Jise  Odhata Bichata Hon, Wo Gazal  Aapko Sunata  Hun,
    Ek Jangal Hai Teri Ankho Me Jhan Rah Bhul Jata Hun…
  • उसने आँखों से आँखें जब मिला दी,
    हमारी ज़िन्दगी झूम कर मुस्कुरा दी,
    जुबान से तो हम कुछ न कह सके,
    पर आँखों ने दिल की कहानी सुना दी।
  • Wo Khane Lagi , Nakab Me Bhi Pahchan Lete Ho Hajaron  Ke Bich?  Mene Muskra Ke Kha,  Teri Ankho Se Hi Suru Huwa Tha Ishk Hajaron Ke Bich.
  • देखा है मेरी नजरों ने
    एक रंग छलकते पैमाने का,
    यूँ खुलती है आंख किसी की
    जैसे खुले दर मैखाने का।
  • Jab Bhi Dekhta Hun Mujhse HarBar Nazaren Chura Leti Hai,
    Maine Kagaz Par Bhi Bna Ke Dekhi Hain Aankhen Uski.
  • उठती नहीं है आँख किसी और की तरफ,
    पाबन्द कर गयी है किसी की नजर मुझे,
    ईमान की तो ये है कि ईमान अब कहाँ,
    काफ़िर बना गई तेरी काफ़िर-नज़र मुझे।
  • Tumhari Yad Me Ankhon Ka Ratjaga Hai,
    Koi Khavab Naya Aaye To Kese Aae.
  • यह मुस्कुराती हुई आँखें
    जिनमें रक्स करती है बहार,
    शफक की, गुल की,
    बिजलियों की शोखियाँ लिये हुए।
  • Ikraar Mein Shabdon Ki Ehamiyat Nahin Hoti,
    Dil Ke Jazbaat Ki Aavaaz Nahin Hoti,
    Aankhein Bayan Kar Deti Hain Dil Ki Dastaan,
    Mohabbat Lafjon Ki Mohtaaj Nahin Hoti.
  • उस घड़ी देखो उनका आलम
    नींद से जब हों बोझल आँखें,
    कौन मेरी नजर में समाये
    देखी हैं मैंने तुम्हारी आँखें।
  • Yun  Hi Ghujar Jati Hai Sham Anjuman Me,
    Kuch Teri Ankhon Ke Bhane Kuch Teri Baton Ke Bhane.
  • आँखें नीची हैं तो हया बन गई,
    आँखें ऊँची हैं तो दुआ बन गई,
    आँखें उठ कर झुकी तो अड़ा बन गई,
    आँखें झुक कर उठी तो कदा बन गई।
  • Jaane Kyun Doob Jata Hun Har Bar Inhein Dekh Kar,
    Ek Dariya Hain Ya Poora Samandar Hain Teri Aankhein.
  • हम भटकते रहे थे अनजान राहों में,
    रात दिन काट रहे थे यूँ ही बस आहों में,
    अब तमन्ना हुई है फिर से जीने की हमें,
    कुछ तो बात है सनम तेरी इन निगाहों में।
  •  Apki ankhen uthi to dua ban gai, Apki ankhen jhuki to ada ban gai. Jhuk kar uthi to hya ban gai. uth kar jhuki to sda ban gai
  • आँखों से आँखें मिला कर तो देखो,
    हमारे दिल से दिल लगा कर तो देखो,
    सारे जहान की खुशियाँ तेरे दामन में रख देंगे,
    हमारे प्यार पर ज़रा ऐतबार करके तो देखो।
  • Ek Si Shokhi Khuda Ne Di Hai Husno-Ishq Ko,
    Fark Bas Itna Hai Wo Aankhon Mein Hai Yeh Dil Mein Hai.
  • आँखों में हया हो तो
    पर्दा दिल का ही काफी है,
    नहीं तो नक़ाब से भी होते हैं,
    इशारे मोहब्बत के।
  • Uski Kudrat Dekhta Hun Teri Aankhein Dekhkar,
    Do Piyalon Mein Bhari Hai Kaise Lakhon Man Sharab.
  • आपकी आँखें उठी तो दुआ बन गई
    आपकी आँखें झुकी तो अदा बन गई
    झुक कर उठी तो हया बन गई
    उठ कर झुकी तो सदा बन गई
  • Raat Badi Mushkil Se Khud Ko Sulaya Hai Maine,
    Apni Aankho Ko Tere Khwab Ka Laalach Dekar.
  • मुझसे जब भी मिलो नजरें उठाकर मिलो,
     मुझे पसंद है अपनेआप को तुम्हारी आँखों में देखना..
  • Kya Kahein, Kya Kya Kiya, Teri Nigaahon Ne Sulook,
    Dil Mein Aayi Dil Mein Thhehri Dil Mein Paikaan Ho Gayi.
  • मेरी आँखों में झाँकने से पहले,
    जरा सोच लीजिये ऐ हुजूर…
    जो हमने पलके झुका ली तो कयामत होगी,
    और हमने नजरें मिला ली तो मुहब्बत होगी।

You may also like