Dard Bhari Shayari For Friends

love and dard bhari shayari For Friends

  • तुम क्या लगा पाओगे ..?
    अंदाज़ मेरी तबाही का,
    तुमने देखा कहाँ है
    मुझको शाम के बाद।
  • अच्छा करते हैं वो लोग जो मोहब्बत का इज़हार नहीं करते
    ख़ामोशी से मर जाते हैं मगर किसी को बदनाम नहीं करते

dard bhari shayari in hindi 160 download For Friends

  • Ab Bas Bhi Kar Zalim, Kuchh Toh Raham Kha Mujh Par,
    Chali Ja Meri Najar Se Dur Kahin Main Shayar Na Ban Jaaun.
  • तप रहीं हैं इमारतें, अब कच्चे गाँव कहाँ
    चिलचिलाती धूप में अब पेडों की छाँव कहाँ

dard bhari shayari urdu sms For Friends

  • दर्द का मेरे यकीन आप करें या न करें,
    इंतिजा है के इस राज़ का चर्चा न करे।
  • aakhir girte huwe aason ne mujh se poch hi liya
    nikaal diya na mujhe us ke liye jiss ke liye to kuch bhi nahi

shayarigam For Friends

  • बहुत अजीब सिलसिले है मोहब्बत इश्क मैं
    कोई वफ़ा के लिए रोया तो कोई वफ़ा कर के रोया
  • ना कोई हमदर्द था ना ही कोई दर्द था
    फिर एक हमदर्द मिला उसी से सारा दर्द मिला

dard bhari shayari hindi and english For Friends

  • जरा बताओ तो किसे गुरुर है अपनी दौलत पर
    चलो उसे बादशाहों से भरा कब्रस्तान दिखाता हु
  • इशरत-ए-क़तर है दरिया में फनाह हो जाना,
    दर्द का हद से गुजरना है दावा हो जाना।

dard bhari shayari for girl For Friends

  • इन ग़म की गलियों में
    कब तक ये दर्द हमें तड़पाएगा,
    इन रस्तों पे चलते-चलते
    हमदर्द कोई मिल जाएगा।
  • Phirte Hue Kisi Ki Nazar Dekhte Rahe Hum,
    Khoon e Dil Hota Raha Magar Dekhte Rahe Hum.

dard bhari shayari tone For Friends

  • अपना कोई मिल जाता तो हम फूट के रो लेते,
    यहाँ सब गैर हैं तो हँस के गुजर जायेगी।
    Apna Koi Mil Jata To Hum Phoot Ke Ro Lete,
    Yehan Sab Ghair Hain To Hans Ke Gujar Jayegi.
  • Latest Dard Bhari Shayari in Hindi and English Font

dard bhari shayari gf For Friends

  • Mujhe Dard-E-Ishq Ka Mazaa Maloom Hai,
    Mujhe Dard-E-Dil Ki Intiha Maloom Hai,
    Zindgi Bhar Muskurane Ki Duaa Mat Dena,
    Mujhe Pal Bhar Muskurane Ki Saza Maloom Hai.
  • Kamaal Ka Jigar Rakhte Hain Kuchh Log,
    Dard Likhte Hain Aur Aah Tak Nahi Karte.

dard bhari shayari dikhayen For Friends

  • हवा से लिपटी हुयी सिसकियों से लगता है,
    मेरी कहानी फिर किसी आशिक ने दोहराई है।
  • वो भी क्या दिन थे जब बच्चपन में कोई रिश्तेदार जाते समय 10₹ दे जाता था
    और माँ 8₹ टीडीएस काटकर 2₹ थमा देती

dard bhari shayari apps For Friends

  • बेनाम सा यह दर्द ठहर क्यों नहीं जाता,
    जो बीत गया है वो गुजर क्यों नहीं जाता,
    वो एक ही चेहरा तो नहीं सारे जहाँ में,
    जो दूर है वो दिल से उतर क्यों नहीं जाता।
  • Jhoothhi Hansi Se Zakhm Aur Barhta Gaya,
    Iss Se Behtar Tha KhulKar Ro Liye Hote.
    झूठी हँसी से जख्म और बढ़ता गया,
    इससे बेहतर था खुलकर रो लिए होते।

You may also like